प्रश्न 3-1: कवि ने 'श्रीबज्रदूलह' किसके लिए प्रयुक्त किया है और उन्हें ससांर रूपी मंदिर का दीपक क्यों कहा है? प्रश्न 3-2: पहले सवैये में से उन पंक्तियों को छाँटकर लिखिए जिनमें अनुप्रास और रूपक अलंकार का प्रयोग हुआ है? प्रश्न 3-3: निम्नलिखित पंक्तियों का काव्य-सौंदर्य स्पष्ट कीजिए - पाँयनि नूपुर मंजु बजैं, कटि किंकिनि कै धुनि की मधुराई। प्रश्न 3-4: दूसरे कवित्त के आधार पर स्पष्ट करें कि ऋतुराज वसंत के बाल-रूप का वर्णन परंपरागत वसंत वर्णन से किस प्रकार भिन्न है। प्रश्न 3-5: 'प्रातहि जगावत गुलाब चटकारी दै' - इस पंक्ति का भाव स्पष्ट कीजिए। प्रश्न 3-6: चाँदनी रात की सुंदरता को कवि ने किन-किन रूपों में देखा है? प्रश्न 3-7: 'प्यारी राधिका को प्रतिबिंब सो लगत चंद' - इस पंक्ति का भाव स्पष्ट करते हुए बताएँ कि इसमें कौन-सा अलंकार है? प्रश्न 3-8: तीसरे कवित्त के आधार पर बताइए कि कवि ने चाँदनी रात की उज्ज्वलता का वर्णन करने के लिए किन-किन उपमानों का प्रयोग किया है? प्रश्न 3-9: पठित कविताओं के आधार पर कवि देव की काव्यगत विशेषताएँ बताइए।